Skip to content

Netraheeno ke liye Roshni ki Kiran

Date : 01-01-2008

नेत्रहीनों के लिए रौशनी की किरण – आरती बूबना 

 झे हुए चिरगों में रशनी जगाने वाली आरती बबना स्वय नेत्रहीनता से अभीशिप्ट ह वे मुंबई  में वौइस् विज़न के नाम से नेत्रहीनों के लिए कंप्यूटर परिक्षण केंद्र  चलाती हे न्म से ही आँखों में  मोतियाबिंदु से ग्रसित आरती को जब देश के  मशहूर नेत्र विशेषज्ञ भी ज्योति प्रदान नहीं कर पाए  तब निराश न होकर अपने परिवार के सहयोग से पहले बी.कॉम किया फिर प्रशासन  प्रबंध में डिप्लोमा किया स्वावलम्बन की और बढ़ते आरती के कदमो को उसके द संकल्प और आत्मविश्वास ने हर पल साथ दिया और उसने विज़न स्क्रीन रीडिंग सॉफ्टवेयर सखा NIIT में प्रवेश नहीं मिलने पर  अपने पिता व भाई  से सहयोग से उसने वौइस् विज़न  के नाम से कंप्यूटर पशिक्षण केंद्र खोला ताकि नेत्रहीन भी इंटरनेट के जरिये अपने क्षितिज का विस्तार कर पायेंअपने देश की यह प्रथम संस्था हे जिससे नेत्र वंचित लोग इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के पथ पर चलने का साहस कर पायें| 

इस संसथान में ३५ छात्र परिक्षित हुए हे जन्मे से आशीष गोयल को विश्व प्रसिद्ध  Wharton School of Management  में प्रवेश मिला दिव्या बिर ने फिजियोथेरेपी में मास्टर्स के साथ एक गानो की  कैसेट भी बनवाई , एक छात्र IBM में सीनियर HR एग्जीक्यूटिव ह  

आरती को NAB (नेशनल एसोसिएशन ऑफ़ ब्लाइंड की और से बेस्ट सेल्फ एम्प्लॉयड ब्लाइंड) का पुरस्कार दिया गया ह एशिया के सर्वश्रेष्ठ नेत्र हॉस्पिटल शंकर  नेत्रालय में प्रेजेंटेशन के लिए उन्हें आमंत्रित किया जाता ह 

मारवाड़ी समाज में एक नेत्रहीन लड़की का जनम एक अभिशाप हो सकता था लेकिन अपने त्मविश्वास और दृढ़संकल्प से आरती अपने परिवार और समाज के लिए गौरव बन गई | 

Blog Categories

Recent Post

16/08/2019

Today I am referred with ...

06/01/2019
While organising our all India across disability...
10/12/2018
Why do we shop? For some, shopping is about the p...